• 18/09/2022

BIG BREAKING : बीजेपी में शामिल होने से पहले छत्तीसगढ़ के इस विधायक के ऊपर बड़ी कार्रवाई, पार्टी ने 6 साल के लिए किया निष्कासित

BIG BREAKING : बीजेपी में शामिल होने से पहले छत्तीसगढ़ के इस विधायक के ऊपर बड़ी कार्रवाई, पार्टी ने 6 साल के लिए किया निष्कासित

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए अपने वरिष्ठ नेता और लोरमी विधायक धर्मजीत सिंह को पार्टी से 6 साल के लिए निष्कासित कर दिया है। जेसीसीजे ने धर्मजीत सिंह के ऊपर अनुसूचित जाति-जनजाति, गरीब पिछड़ा वर्ग की उपेक्षा का आरोप लगाया है।

पार्टी ने विज्ञप्ति जारी कर बीजेपी के ऊपर षड़यंत्र का आरोप लगाया है। विज्ञप्ति में कहा गया है कि बीजेपी राष्ट्रीय षड़यंत्र कर रही है और एक-एक कर क्षेत्रीय दलों की नष्ट करने की उनकी योजना है।

आपको बता दें धर्मजीत सिंह की बीजेपी से लगातार नजदीकियां बढ़ते जा रही थी। जल्दी ही उनके बीजेपी प्रवेश की अटकलें लगाई जा रही थी। सूत्रों के मुताबिक धर्मजीत सिंह द्वारा पार्टी छोड़कर बीजेपी में जाने की भनक जेसीसीजे को लग गई थी। जिसके बाद पार्टी ने उनके खिलाफ ये कार्रवाई की हालांकि पार्टी ने इसका अंतिम निर्णय जेसीसीजे सुप्रीमो के ऊपर छोड़ दिया है। कहा गया है पार्टी सुप्रीमो रेणु जोगी इस पर अंतिम निर्णय लेंगी।

पढ़िए विज्ञप्ति

छत्तीसगढ़ के एकमात्र मान्यता प्राप्त  क्षेत्रीय राजनीतिक दल जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की कोर कमिटी ने आज अत्यंत ही दुःखी मन से एक ऐतिहासिक निर्णय लिया है। अपनी ही पार्टी के विधायक दल के नेता वरिष्ठ विधायक ठाकुर धर्मजीत सिंह पर अनुसूचित जाति, जनजाति, गरीब अति पिछड़ा वर्ग समाज की उपेक्षा सहित स्व. अजीत जोगी के सिद्धांतों के विरुद्ध कार्य करने के कारण पार्टी से निष्कासित करते हुए अंतिम निर्णय पार्टी सुप्रीमो डॉ. रेणु जोगी पर छोड़ दिया है।

ज्ञात हो कि विधायक धर्मजीत सिंह को पार्टी संस्थापक स्व. अजीत जोगी ने बहुत ही विश्वास के साथ पार्टी विधायक दल का नेता बनाया था परंतु विगत लगभग एक वर्ष से, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के कार्यकर्ताओं द्वारा पार्टी नेतृत्व के संज्ञान में यह शिकायत लगातार लायी जा रही थी कि जेसीसीजे के लोरमी विधानसभा से विधायक ठाकुर धरमजीत सिंह अनुसूचित जाति, जनजाति, गरीब पिछड़ा वर्ग से संबंधित पार्टी के स्थानीय कार्यकर्ताओं एवं लोगों को दरकिनार कर लगातार उनकी उपेक्षा कर रहे हैं और एक वर्ग विशेष के लोगों को ही महत्व दे रहे हैं। विधायक धर्मजीत सिंह लगातार अन्य दल के संपर्क में रहकर अपने निजी स्वार्थ का ताना बाना बुनने में लगे रहे है। इन शिकायतों के संदर्भ में, पूर्व में अनेकों बार विधायक धर्मजीत सिंह के साथ चर्चा भी की गयी किन्तु उनके आचरण और विचार में कोई बदलाव नहीं आया

छत्तीसगढ़ की जनता यह भलीभांति जानती है कि विधायक धर्मजीत सिंह को 2018 के चुनावों में जीत माननीय स्व. अजीत जोगी जी के नाम और काम की बदौलत प्राप्त हुई थी। और उन्होंने माननीय स्व अजीत जोगी जी के ‘समाजिक न्याय’ और ‘छत्तीसगढ़ प्रथम’ के सिद्धांतों के विपरीत काम किया है। यह भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय षड़यंत्र का परिणाम है, जिसके अंतर्गत देश के सभी क्षेत्रीय दलों को एक एक कर नष्ट करने की योजना पर काम किया जा रहा है।

जिस पार्टी के चिन्ह पर चुनाव जीते और विधायक बने, उसी पार्टी की नीतियों को त्यागने तथा छत्तीसगढ़वाद की क्षेत्रीय विचारधारा को मिटाने का प्रयास करने के कारणवश, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) लोरमी विधायक ठाकुर धरमजीत सिंह को छः वर्षों के लिए पार्टी से निष्कासित करती है। धरमजीत सिंह के पार्टी से निष्कासन की सूचना माननीय विधानसभा अध्यक्ष महोदय को सूचना दे दी गई है। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) विधायक धर्मजीत सिंह को निष्कासित करने का प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित करते हुए इस विषय में अंतिम निर्णय लेने के लिए जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) की राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. रेणु जोगी जी को अधिकृत करती है।

 

 

 


Related post