बड़ी खबर: 10 राज्यों में NIA और ED की ताबड़तोड़ कार्रवाई, PFI के 100 से अधिक कैडर गिरफ्तार

बड़ी खबर: 10 राज्यों में NIA और ED की ताबड़तोड़ कार्रवाई, PFI के 100 से अधिक कैडर गिरफ्तार
Spread the love

PFI के आतंकवादी संगठनों से कनेक्शन को लेकर नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) और ED ने केरल में बड़े पैमाने पर छापामार कार्रवाई की है. PFI के करीब 50 ठिकानों पर RAIDS डालने NIA-ED टीम अपने साथ अन्यों की सेंट्रल फोर्स के साथ लेकर गई है.

NIA और ED ने केरल के मलप्पुरम जिले के मंजेरी में OMA सलाम, PFI अध्यक्ष के घर पर छापेमारी की. इस दौरान PFI कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया.

NIA और ED ने तिरुवनंतपुरम में यह कार्रवाई आधी रात को की. जहां PFI राज्य, OMA सलाम के घर, मंजेरी, मलप्पुरम जिले में PFI अध्यक्ष और PFI कार्यालयों सहित जिला स्तर के नेताओं के घरों पर छापेमारी की.

100 से ज्यादा गिरफ्तार

10 राज्यों में की जा रही बड़ी कार्रवाई में NIA, ED ने राज्य पुलिस के साथ PFI के 100 से अधिक कैडरों को गिरफ्तार किया है. वहीं  कर्नाटक के मंगलुरु में NIA की छापेमारी के खिलाफ PFI और SDPI के कार्यकर्ता अभी भी प्रदर्शन कर रहे हैं. NIA विभिन्न राज्यों में कई जगहों पर छापेमार कार्रवाई जारी है.

18 सितंबर को भी हुई थी कार्रवाई

NIA ने इससे पहले 18 सितंबर को आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में 23 जगहों पर रेड मारी थी. ये छापेमारी भी कराटे प्रशिक्षण केंद्र के नाम पर प्रतिबंधित संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) का ट्रेनिंग कैंप चलाए जाने के मामले में की गई थी. NIA ने निजामाबाद, कुरनूल, गुंटूर और नेल्लोर जिले में रेड की थी. सूत्रों की मानें तो NIA ने उन्हीं स्थानों पर रेड की, जहां से आतंकी गतिविधियों के संचालन की जानकारी मिली थी.

PFI पर ये है आरोप

दरअसल, PFI पर कानपुर हिंसा, आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने और धर्म के आधार पर नफरत फैलाने के कई आरोप लगते रहते हैं. दिल्ली में सीएए आंदोलन से लेकर मुजफ्फरनगर, शामली और मध्य प्रदेश के खरगौन में हुई सांप्रदायिक हिंसा में पीएफआई से तार जुड़े होने का दावा किया जा रहा है.

क्या है पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया

बता दें कि पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) एक इस्लामिक संगठन है. ये संगठन अपने को पिछड़ों और अल्पसंख्यकों के हक में आवाज उठाने वाला बताता है. संगठन की स्थापना 2006 में नेशनल डेवलपमेंट फ्रंट (NDF) के उत्तराधिकारी के रूप में हुई थी. संगठन की जड़े केरल के कालीकट में हैं.

दिल्ली में है सेंट्रल ऑफिस

1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस के बाद दक्षिण में इस तरह के कई संगठन सामने आए थे. उनमें से कुछ संगठनों को मिलाकर पीएफआई का गठन किया गया. तब से ही यह संगठन देशभर में कार्यक्रम आयोजित करवाता है. PFI का मुख्यालय कोझीकोड में था, लेकिन लगातार विस्तार के कारण इसका सेंट्रल ऑफिस राजधानी दिल्ली में खोला गया है.

इसे भी पढ़ें: Breaking News: मालगाड़ी पटरी से उतरी, कई ट्रेनें प्रभावित

इसे भी पढ़ें: होमवर्क न करने की बाप ने दी मासूम को दर्दनाक सजा, बेटे को जलाकर मारा

इसे भी पढ़ें: राजधानी में बड़ा सड़क हादसा: डिवाइडर पर सो रहे लोगों को ट्रक ने कुचला, 4 की दर्दनाक मौत