• 08/08/2022

अफसरों की लापरवाही : बांगो परियोजना की मुख्य नहर फूटी, 100 एकड़ फसल तबाह, घरों में घुसा पानी का सैलाब, सप्ताह भर पहले हादसे की जताई थी आशंका

अफसरों की लापरवाही : बांगो परियोजना की मुख्य नहर फूटी, 100 एकड़ फसल तबाह, घरों में घुसा पानी का सैलाब, सप्ताह भर पहले हादसे की जताई थी आशंका

जांजगीर-चांपा में हसदेव बांगो परियोजना की मुख्य नहर फूट गई। नहर फूटने से 2 किलोमीटर के क्षेत्र में पानी का सैलाब आ गया और तकरीबन 100 एकड़ खेत में खड़ी फसल बर्बाद हो गई। जिस वक्त नहर फूटी उस वक्त सब अपने घरों में सो रहे थे और यह सब हुआ है प्रदेश के अफसरों और कर्मचारियों की लापरवाहियों की वजह से। ग्रामीणों ने तकरीबन सप्ताह भर पहले नहर से पानी रिसने की शिकायत की थी। लेकिन अफसरों और कर्मचारियों के कानों पर जू भी नहीं रेंगी। कोई भी देखने तक नहीं पहुंचा। वहीं आज सुबह सूचना दी गई लेकिन अफसरों को पहुंचने में दोपहर तक का वक्त लग गया।

मामला पामगढ़ क्षेत्र के बार गांव का है। यहां हसदेव बांगो परियोजना के तहत मुख्य नहर का निर्माण किया गया था। सोमवार तड़के करीब 3ः30 बजे फूट गई। जिसके बाद पानी का सैलाब खेतों को पार करते हुए ग्रामीणों के घर के भीतर तक पहुंच गया। उस वक्त ग्रामीण गहरे नींद में थे। पानी घरों में घुसने के बाद वो हड़बड़ा कर जागे, तब जाकर मामले का पता चला।

किसानों ने आरोप लगाया है कि अधिकारियों को सप्ताह भर सूचना दी गई थी कि गांव के पास नहर से पानी रिस रहा है और कभी भी बड़ी घटना हो सकती है। लेकिन अधिकारियों ने उनकी बातों को अनसुना कर दिया। ग्रामीणों का कहना है कि नहर घटिया निर्माण की वजह से फूटी है। इससे करीब 100 एकड़ खेत में लगी उनकी फसल बर्बाद हो गई। उन्होंने सरकार से इसका मुआवजा मांगा है। उनका कहना है कि अधिकारी अगर उनकी बातों को अनसुना नहीं करते तो उन पर यह आफत नहीं आती।

मामले की जानकारी लगते ही कलेक्टर ने पामगढ़ एसडीएम बीएस मरकाम, तहसीलदार, राजस्व अधिकारी और जल संसाधन विभाग के अफसरों को मौके पर पहुंचने का निर्देश दिया। मौके पर पहुंचे अफसरों ने मौका मुआयना किया और नहर के क्षतिग्रस्त हिस्से को मरम्मत करने का काम शुरु कर दिया गया है।

पामगढ़ एसडीएम ने बताया कि घटना स्थल का मुआयना किया गया है। नुकसान की रिपोर्ट बनाई जा रही है ताकि जो किसान इससे प्रभावित हुए हैं उन्हे राहत मिल सके। इसके साथ ही जिन ग्रामीणों के घर में नहर का पानी घुसने से नुकसान हुआ है उन परिवारों के लिए राशन की व्यवस्था कराई गई है। मौके का मुआयना करने के बाद मरम्मत का कार्य प्रारंभ कर दिया गया है। आपको बता दें बांगो परियोजना के तहत बनी इस मुख्य नहर से धान की खरीफ फसल के लिए किसानों को पानी दिया जाता है।

इसे भी पढ़ें : BREAKING : मंत्री को कोर्ट ने सुनाई 1 साल की सजा, 1500 रुपये जुर्माना भी, दोषी ठहराए जाने के बाद फाइल लेकर हो गए थे फरार

इसे भी पढ़ें : रक्षाबंधन 11 को या फिर 12 अगस्त को, संशय करें दूर, जानिए किस दिन है मनाना शुभ

 


Related post

CG सरकार ने परसा कोल ब्लॉक की वन भूमि का डायवर्सन रद्द करने केन्द्र को लिखा पत्र, कहा- जनविरोध के चलते लॉ एंड ऑर्डर की स्थिति निर्मित हो गई

CG सरकार ने परसा कोल ब्लॉक की वन भूमि…

छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्य में कोल ब्लाकों को दी गई अनुमति के विरोध में आदिवासियों का आंदोलन लगातार जारी है। लंबे…
हसदेव अरण्य को बचाने यहां 145 दिन से चल रहा आंदोलन, समर्थन देने पहुंचे आप प्रदेशाध्यक्ष, कहा – कटाई नहीं रुकी तो करेंगे आमरण अनशन

हसदेव अरण्य को बचाने यहां 145 दिन से चल…

छत्तीसगढ़ के हसदेव अरण्य में कोल खदानों के लिए उद्योगपति गौतम अडानी की कंपनी लगातार पेड़ों की कटाई कर रही है।…
पेसा के नए प्रावधान और वन संरक्षण अधिनियम से बवाल, कॉर्पोरेट लूट के खिलाफ राजधानी में आदिवासियों का हल्ला बोल

पेसा के नए प्रावधान और वन संरक्षण अधिनियम से…

छत्तीसगढ़ में कॉर्पोरेट लूट के खिलाफ राजधानी में रविवार को आदिवासियों ने हल्ला बोला। मोदी सरकार के नए वन संरक्षण अधिनियम-2022…