• 17/07/2022

सावन सोमवार पर, शिवालयों में दर्शन-पूजन के लिए खास इंतजाम

सावन सोमवार पर, शिवालयों में दर्शन-पूजन के लिए खास इंतजाम

रायपुर। सावन माह की शुरूआत होते ही शिवालयों में शिवभक्तों की भीड़ भगवान भोलेनाथ का दर्शन-पूजन करने उमड़ रही है। वहीं कल सावन माह का प्रथम सोमवार है, इसके लिए शिवालयों में कल विशेष पूजन होगा। इधर सावन माह का इंतजार कर रहे शिवभक्त पूरी श्रद्धा के साथ शिवभक्ति में जुट गए हैं। कांवड़ियों का जत्था भी शिवालयों में अभिषेक के लिए अब पहंुचने लगा है। राजधानी के शिवभक्त इस दौरान बाबाधाम झारखंड के लिए भी रवाना हो रहे हैं। कुल मिलाकर इस समय शहर का माहौल पूरी तरह से शिवमय हो गया है।

शिवालयों में सुबह से ही बाबा भोलेनाथ के जयकारे गूंज रहे हैं। भगवान आशुतोष का पूजन करने के लिए शिवभक्त सुबह से ही शिवालयों में पहुंच  रहे हैं। इनमें बच्चों में खासा उत्साह नजर आ रहा है, सावन की रिमझिम फुहार के बीच नन्हें बच्चे अपने-अपने परिजनों के साथ शिवमंदिरों में पहुंचकर  शिवपूजा में शामिल हो रहे हैं। शहर के महादेवघाट, बूढ़ेश्वर महादेव मंदिर, नरहरेश्वर महादेव मंदिर, बंजारी स्थिति बंजारेश्वर महादेव मंदिर सहित अन्य शिवालयों में रोजाना भक्त अपने आराध्य का दर्शन-पूजन करने पहुंच रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: मौसम अलर्ट : छत्तीसगढ़ के इन इलाकों में भारी बारिश की चेतावनी

शहर के नीलकंठेश्वरधाम रावणभाठा में भी आकर्षक साज-सज्जा की गई है। सभी शिवालयों में शिवभक्तों द्वारा रूद्राभिषेक, जलाभिषेक के साथ ही तरह-तरह से अभिषेक कर भोलेनाथ की पूजा-आराधना में लगे हुए हैं। इधर कांवड़ियों का जत्था भी अब शिवालयों में पहुंचने लगा है। बोल बम के जयकारा लगाते हुए कांवड़ियों शिवालयों में पहुंच रहे हैं और भगवान का जलाभिषेक कर दर्शन-पूजन का लाभ ले रहे हैं। पवित्र सावन माह का शिवभक्तों को बेसब्री से इंतजार होता है। यही वो समय होता है जब भगवान अपने भक्तों को सहज ही दर्शन देकर उनकी बिगड़ी बनाते हैं। सावन माह में भगवान शिव के पूजन का विशेष महत्व माना गया है। इसीलिए शिवभक्त इस पूरे माह विविध तरीकों से भगवान भोलेनाथ की आराधना करते हैं।

इसे भी पढ़ें: सिंहदेव ने 4 पेज में दिया इस्तीफा, पेसा कानून सहित मंत्रियों के अधिकार को मुख्य सचिव को देने से थे नाराज, पढ़िए पूरा इस्तीफा

कालसर्प दोष होता है :

मान्यता है कि सावन माह में शिवपूजन और भगवान के अभिषेक के साथ नागपूजन किया जाए तो जातक की कुंडली में यदि कालसर्प जैसा भयंकर दोष भी हो तो शिवकृपा से आसानी से कट जाता है और जातक के जीवन में खुशहाली आती है। कालसर्प दोष दूर करने के कई उपाय हमारे वैदिक धर्मग्रंथों में उपलब्ध है। लेकिन इनमें सबसे सरल शिवपूजन ही बताया गया है। सावन माह में जो जातक प्रतिदिन शिवालय जाकर पूरी आस्था के साथ भगवान शिव का जलाभिषेक करता है अथवा एक कलश पानी से ही जलाभिषेक करता है और नागपूजन करता है, भगवान भोलेनाथ उसकी सभी विपत्ति हर लेते हैं।

इसे भी पढ़ें:कोलवाशरी व कोल डिपो में हुई 300 करोड़ की गड़बड़ी, संयुक्त जांच दल के दबिश में बड़ा खुलासा


Related post

अब मां काली और भगवान शंकर की अश्लील तस्वीरें, इस मैग्जीन के खिलाफ शिकायत

अब मां काली और भगवान शंकर की अश्लील तस्वीरें,…

नई दिल्ली। काली मूवी पर शुरू हुआ विवाद अभी ठीक से थमा भी नहीं था कि एक अंग्रेजी पत्रिका में भगवान…
पवित्र सावन माह कल से ऐसे करें महादेव को प्रसन्न…

पवित्र सावन माह कल से ऐसे करें महादेव को…

रायपुर। देवों के देव महादेव के प्रिय श्रावण मास कल से प्रारंभ हो रहा है। शिवभक्तों को श्रावण मास का बेसब्री…
काली के बाद शिव और पार्वती को दिखाया सिगरेट पीते, मणिमेकलई के विवादित पोस्ट पर फिर मचा बवाल

काली के बाद शिव और पार्वती को दिखाया सिगरेट…

डॉक्यूमेंट्री फिल्म काली के पोस्टर को लेकर जारी विवाद अभी थमा भी नहीं था कि फिल्म मेकर लीना मणिमेकलई ने अब…