• 16/07/2022

सिंहदेव ने 4 पेज में दिया इस्तीफा, पेसा कानून सहित मंत्रियों के अधिकार को मुख्य सचिव को देने से थे नाराज, पढ़िए पूरा इस्तीफा

सिंहदेव ने 4 पेज में दिया इस्तीफा, पेसा कानून सहित मंत्रियों के अधिकार को मुख्य सचिव को देने से थे नाराज, पढ़िए पूरा इस्तीफा

रायपुर। मंत्री टीएस सिंहदेव ने भूपेश बघेल के मंत्रीमंडल से पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के मंत्री के रुप में अपना इस्तीफा दे दिया है। हालांकि सिंहदेव अभी स्वास्थ्य मंत्री बने रहेंगे। सीएम भूपेश बघेल को भेजे गए 4 पेज के अपने इस्तीफे में टीएस सिंहदेव ने अपनी पीड़ा व्यक्त की है, साथ ही उन वजहों का जिक्र भी किया है, जिसकी वजह से उन्होंने इतना बड़ा कदम उठाया है।

सिंहदेव ने अपने इस्तीफे की जिन बड़ी वजहों का जिक्र किया है उनमें से एक वजह यह भी है कि मंत्री होने के बावजूद उनके विभाग की योजनाओं के अंतर्गत कार्यों का अनुमोदन का देने के बाद भी अंतिम निर्णय का अधिकार नियम विरुद्ध तरीके से मुख्य सचिव को दे दिया गया था। सिंहदेव ने इसे लेकर कई बार आपत्ति दर्ज कराई लेकिन उसे दरकिनार कर दिया गया।

सिंहदेव ने कहा, “किसी भी विभाग के अधीDiscretionary योजनाओं के अंतर्गत कार्यों की स्वीकृति का अनुमोदउस विभाग के भारसाधक मंत्री का निर्धारित अधिकाहैकिन्तु मुख्यमंत्री समग्र ग्रामीण विकास योजना के अंतर्गत कार्यों की अंतिम स्वीकृति हेतु Rules of Business के विपरीत मुख्य सचिव की अध्यक्षता में सचिवों की एक रागिति गठित की गयीकार्यों की स्वीकृति हेतु मंत्री के अनुमोदन उपरांत अंतिम निर्णय मुख्य सचिव की समिति द्वारा लिये जाने की प्रक्रिया नायी गयी जो प्रोटोकाल के विपरीत सर्वथा अनुचित है, जिस पर मेरे द्वारा समयसमय पर लिखित रूप रो आपत्ति दर्ज करायी गयीकिन्तु आजपर्यन्त इस व्यवस्था को सुधारा नहीं जा सका है फलस्वरूप 500 रोड़ से ज्यादा की राशि का उपयोमंत्री/ विधायक/जनप्रतिनिधि के सुझावों के अनुसार विकास कार्यों में नहीं किया जा सकावर्तमान में पंचायतों में अनके विकास कार्य प्रारंभ ही नहीं हो पाये।”

सिंहदेव ने पेसा कानून के प्रावधानों को लेकर भी अपनी नाराजगी जाहिर की है। पेसा कानून का मसौदा तैयार करने की जिम्मेदारी टीएस सिंहदेव को दी गई थी। सिंहदेव आदिवासी क्षेत्रों का सघन दौरान कर आदिवासी समाज के प्रतिनिधियों के साथ चर्चा कर इसका मसौदा तैयार किए थे। लेकिन कैबिनेट में उस मसौदे से कई प्रावधानों को उनकी जानकारी के बगैर ही हटा दिया गया था। सिंहदेव ने इस पर आपत्ति जताते हुए मुख्यमंत्री को पत्र भी लिखा था।

सिंहदेव ने कहा, “पेसा अधिनियम आदिवासी भाईबहनों के अधिकारों के संरक्षण के लिए एक महत्वपूर्ण कदहैइसे प्रदेश में लागू करने के संबंध में जनघोषणापत्र में भी वादा किया था तथा काफी मेहनत से नियबनाये गये थे ताकि उसे सफलतापूर्वक प्रदेश में लागू किया जा सकेदिनां13 जून, 2020 से प्रदेश के आदिवासी ब्लाकों में जाकर, वहां के स्थानीय लोगों, स्थानीय जनप्रतिनिधियों इत्यादि से निरंतर 02 वर्षों से संवाद स्थापित कर इसका प्रारूप तैयार किया गयाकिन्तु विभाग द्वारा जो प्रारूप कैबिनेट कमेटी को भेजा गया था जिराके अनुसार चर्चा हुई उसमें जल, जंगल जगीन से संबंधित महत्वपूर्ण बिन्दुओं को बदल कैबिनेट की प्रेसिका में शायद पहली बार बदल दिया गयाभारसाधक मंत्री को विश्वास में नहीं लिया गया जो कि अस्वस्थ्य परम्परा को स्थापित करेगाइस विषय पर पृथक से मैंने व्यक्तिगत पत्र भी आपको लिखा है।”

सिंहदेव ने अपने इस्तीफे में जनघोषणा पत्र का भी जिक्र किया है। सिंहदेव के नेतृत्व में ही जनघोषणा पत्र तैयार किया गया था। इसी जनघोषणा पत्र की वजह से कांग्रेस का 15 साल का सूखा खत्म हुआ था और पार्टी ने प्रदेश में भूपेश बघेल के नेतृत्व में सरकार बनाई। सिंहदेव ने जनघोषणा पत्र के वादे का जिक्र करते हुए कहा कि पंचायत प्रतिनिधियों के अधिकारों को पूर्ण रुप से लागू करने का वादा किया गया था लेकिन कई बार चर्चा होने के बावजूद इस पर कोई कदम नहीं उठाया गया।

सिंहदेव ने कहा, “जनघोषणापत्र में किये गये वादों में पंचायत प्रतिनिधियों के अधिकारों को पूर्ण रूप से लागू करना भी है जिराके लिए मैंने आपसे कई बार चर्चा तथा विभागीय तौर पर भी पहल की किन्तु मुझे यह निराश से कहना पड़ रहा है कि इस पर आजपर्यन्कोई भी सहमति/राकारात्मपहल नहीं हो पायी।”

इसके साथ ही सिंहदेव ने प्रधानमंत्री आवास योजना के लिए चर्चा के बावजूद राशि आबंटित नहीं होने की वजह से भी निराशा जताई है। उन्होंने कहा कि उन्हें दुख है कि छत्तीसगढ़ के आवास विहीन लोगों को इस योजना का लाभ नहीं मिल सका।

सिंहदेव ने कहा, “प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत् प्रदेश के आवास विहीन लोगों को आवास बनाकर दिया जाना था जिसके लिए मैंने कई बार आपसे चर्चा कर राशि आबंटन का अनुरोध किया था किन्तु इस योजना में राशि उपलब्ध नहीं की जा सकी फलस्वरूप प्रदेश के लगभग 8 लाख लोगों के लिए आवास हीं बनाये जा सकेइसके अतिरिक्त 8 लाख घर बनाने में से करीब 10 हजार करोड़ प्रदेश की अर्थव्यवस्था में सहायक होतेहमारे जन घोषणा पत्र में छत्तीसगढ़ के 36 लक्ष्य अंतर्गत ग्रामीण आवास का अधिकाप्रमुख रूप से उल्लेखिहैविचारणीय है कि, प्रदेश में वर्तमान सरकार के कार्यकाल में बेघर लोगों के लिए एक भी आवास नहीं बनाया जा सका और योजना की प्रगति निरंक रहीमुझे दुःख है कि इस योजना का लाभ प्रदेश के आवास विहीन लोगों को नहीं मिसका।”

 


Related post

मंदिरों में मोबाइल फोन ले जाने पर हाईकोर्ट ने लगाया बैन, दिया ये आदेश

मंदिरों में मोबाइल फोन ले जाने पर हाईकोर्ट ने…

मोबाइल आजकल हर किसी की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। ऐसी कोई भी जगह नहीं होगी कि जहां हम…
आरक्षण विधेयक पर राज्यपाल ने अभी नहीं किए हस्ताक्षर, बताई ये वजह

आरक्षण विधेयक पर राज्यपाल ने अभी नहीं किए हस्ताक्षर,…

छत्तीसगढ़ में आरक्षण संशोधन विधेयक गुरुवार को सर्वसम्मित से पारित हो गया है। सभी वर्गों (SC, ST, OBC, EWS) के लिए…
आरोपी को लेकर आ रही पुलिस गाड़ी का एक्सीडेंट, 1 की मौत 5 घायल

आरोपी को लेकर आ रही पुलिस गाड़ी का एक्सीडेंट,…

मध्य प्रदेश से एक आरोपी को लेकर छत्तीसगढ़ आ रही मनेन्द्रगढ़ पुलिस की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त हो गई है। हादसे में 1…