• 15/07/2022

जज-वकील 9 बजे काम क्यों नहीं शुरु कर सकते जब बच्चे सुबह 7 बजे स्कूल आ सकते हैं तो, तय समय से पहले कार्यवाही शुरु करते हुए बोले भावी CJI

जज-वकील 9 बजे काम क्यों नहीं शुरु कर सकते जब बच्चे सुबह 7 बजे स्कूल आ सकते हैं तो, तय समय से पहले कार्यवाही शुरु करते हुए बोले भावी CJI

सुप्रीम कोर्ट के भावी CJI जस्टिस यू यू ललित ने जजों के अदालत में आने को लेकर अहम टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि जब बच्चे सुबह 7 बजे स्कूल आ सकते हैं तो न्यायाधीश और वकील 9 सुबह बजे अपना काम शुरु क्यों नहीं कर सकते।

दरअसल जस्टिस यूयू ललित समय से एक घंटा पहले ही मामलों की सुनवाई शुरु कर दी थी। न्यायालय में आम तौर पर 10:30 बजे ही कामकाज की शुरुआत होती है। अदालत का काम काज 4 बजे तक जारी रहता है। इस बीच 1 से 2 घंटे का लंच ब्रेक लिया जाता है। लेकिन इस विपरीत शुक्रवार को जस्टिस ललित ने साढ़े नौ बजे केस की सुनवाई शुरू की। उनकी बेंच में जस्टिस एस रविंद्र भट और सुधांशु धूलिया भी हैं।

इसे भी पढ़ें : ट्रेनों में अब TTE के हाथों में होगा यह खास गैजेट, यात्रियों को मिलेंगे इसके ये लाभ

जमानत मामले में पेश हुए पूर्व अटार्नी जनरल मुकुल रोहतगी ने समय से पहले कामकाज शुरु करने के लिए बेंच की सराहना की। उन्होंने कहा, “9.30 का यह समय अदालतें शुरू करने का अधिक उचित समय है।” जिस पर जस्टिल ललित ने कहा कि मेरा हमेशा से मानना है कि अदालत को जल्दी काम शुरु करना चाहिए। उन्होंने कहा, ” मैंने हमेशा कहा है कि अगर हमारे बच्चे सुबह 7 बजे स्कूल जा सकते हैं तो हम 9 बजे कोर्ट क्यों नहीं आ सकते?”

माना जा रहा है कि  जस्टिस ललित की ये टिप्पणी न्यायालयीन काम काज में बड़ा बदलाव ला सकती है। जस्टिस ललित सुप्रीम कोर्ट के भावी चीफ जस्टिस हैं। वे सीजेआई एनवी रमना से अगले महीने पदभार ग्रहण करेंगे।

इसे भी पढ़ें : द्रौपदी मुर्मू के रायपुर पहुंचने पर पंथी नृत्य के साथ कुछ इस तरह से हुआ स्वागत

इसे भी पढ़ें : संसद में धरना सहित कई कार्यों पर रोक, जुमलाजीवी, भ्रष्ट, तानाशाह सहित ये शब्द माने जाएंगे असंसदीय भाषा

 


Related post

गद्दार कहे जाने पर सचिन पायलट का अब आया बड़ा रिएक्शन, जानिए क्या कहा

गद्दार कहे जाने पर सचिन पायलट का अब आया…

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर इस वक्त सबकी नजर है। वजह अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच का…
मंदिरों में मोबाइल फोन ले जाने पर हाईकोर्ट ने लगाया बैन, दिया ये आदेश

मंदिरों में मोबाइल फोन ले जाने पर हाईकोर्ट ने…

मोबाइल आजकल हर किसी की जिंदगी का अहम हिस्सा बन गया है। ऐसी कोई भी जगह नहीं होगी कि जहां हम…
आरक्षण विधेयक पर राज्यपाल ने अभी नहीं किए हस्ताक्षर, बताई ये वजह

आरक्षण विधेयक पर राज्यपाल ने अभी नहीं किए हस्ताक्षर,…

छत्तीसगढ़ में आरक्षण संशोधन विधेयक गुरुवार को सर्वसम्मित से पारित हो गया है। सभी वर्गों (SC, ST, OBC, EWS) के लिए…