• 15/07/2022

इस वजह से द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति चुनाव जीतना तय…

इस वजह से द्रौपदी मुर्मू का राष्ट्रपति चुनाव जीतना तय…

द तथ्य डेस्क। राष्ट्रपति चुनाव के बहाने ही सही विपक्ष एक बार फिर से एकजुट होने की कोशिश में लगी थी, लेकिन ऐन वक्त में कई दलों के द्वारा द्रौपदी मुर्मू को समर्थन दिए जाने के ऐलान के बाद विपक्ष का यह सपना टूट गया है। वहीं अब द्रौपदी मुर्मू की जीत जय मानी जा रही है,क्योंकि मुर्मू को अधिकांश दलों ने अपना समर्थन देने का ऐलान कर दिया है। मुर्मू के समर्थन और विरोध के सवाल पर यूपीए में ही फूट नहीं पड़ी है, बल्कि सपा और कांग्रेस जैसे कई दल भी फूट के शिकार हुए हैं। विशेषतः विपक्षी उम्मीदवार के तौर पर यशवंत सिन्हा के नाम का प्रस्ताव रखने वाली टीएमसी भी अब मझधार में  है।

इसे भी पढ़ें : भारत में मंकीपॉक्स की एंट्री, इस राज्य में मिला पहला केस, संपर्क में आए लोगों में भी फैलने का खतरा

मुर्मू को अब तक गैर राजग दलों में अकाली दल, वाईएसआर कांग्रेस, टीडीपी, बसपा, झामुमो, जदएस, सुभासपा और शिवसेना ने समर्थन देने की घोषणा कर दी है। इनमें झामुमो, शिवसेना, जदएस और टीडीपी ने पहले विपक्षी दलों की बैठक में यशवंत के नाम पर सहमति दी थी। हालांकि राजग के आदिवासी कार्ड के बाद ये दल मुर्मू के साथ आने पर मजबूर हो गए। वहीं राष्ट्रपति चुनाव में किसे समर्थन देना है, इसके लिए आम आदमी पार्टी की शनिवार को एक बड़ी बैठक होने वाली है।

इसे भी पढ़ें : द्रौपदी मुर्मू के रायपुर पहुंचने पर पंथी नृत्य के साथ कुछ इस तरह से हुआ स्वागत

द्रोपदी मुर्मू के समर्थन के मुद्दे पर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी में खींचतान स्पष्ट नजर आ रहा है तो वहीं शिवसेना के अधिकांश सांसदों ने उद्धव को मुर्मू का साथ देने की सलाह दे चुके हैं, ठाकरे ने भी एक तरह से मुर्मू को अपना समर्थन दे दिया है। इसके पीछे कारण स्पष्ट है कि ठाकरे अब किसी भी कीमत पर अपने पार्टी के भीतर फूट नहीं पड़ने देना चाहते है। कांग्रेस के झारखंड के कुछ विधायकों ने मुर्मू का समर्थन देने की घोषणा की है, जबकि सपा के शिवपाल यादव और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के ओमप्रकाश राजभर ने भी मुर्मू का समर्थन करने की घोषणा की है। कुल मिलाकर मुर्मू को समर्थन न देने की जिद पर अड़े विपक्षी दलों की एकता चुनाव के टीक पहले ही पूरी तरह से भंग हो चुकी है और मुर्मू एक बड़ी जीत की ओर बढ़ रही है।

इसे भी पढ़ें : राष्ट्रपति चुनाव : मतदान सामाग्रियों-स्ट्रांग रूम की वीडियोग्राफी के साथ ऐसी है सुरक्षा व्यवस्था


Related post

Global Hunger Index 2022: ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पड़ोसी देशों से भी पिछड़ा भारत; पाकिस्तान, नेपाल, श्रीलंका भी इंडिया से आगे

Global Hunger Index 2022: ग्लोबल हंगर इंडेक्स में पड़ोसी…

ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2022 को लेकर 121 देशों की रैंकिंग की सूची जारी कर दी गई है. भारत इस इंडेक्स में…
राष्ट्रपति द्रौपद्री मुर्मू पर कांग्रेस नेता की ऐसी विवादित टिप्पणी, NCW ने भेजा नोटिस

राष्ट्रपति द्रौपद्री मुर्मू पर कांग्रेस नेता की ऐसी विवादित…

राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू पर अधीर रंजन चौधरी के बाद अब कांग्रेस नेता डॉ. उदित राज ने विवादित बयान देकर घिर गए हैं.…
EX MLA ने दी नए संसद भवन को बम से उड़ाने की धमकी, विस्फोटकों से भरा बैग भेजा, गिरफ्तार

EX MLA ने दी नए संसद भवन को बम…

एक पूर्व विधायक को नए संसद भवन सेंट्रल विस्टा (Central Vista) को बम से उड़ाने की धमकी देने के आरोप में…