• 12/07/2022

मच्छरों को हेल्दी रखने देश में बनाया गया स्पेशल डाइट, चौंकिए मत ये है वजह

मच्छरों को हेल्दी रखने देश में बनाया गया स्पेशल डाइट, चौंकिए मत ये है वजह

द तथ्य डेस्क। मच्छरों से बचने आप न जाने क्या-क्या जतन करते होंगे। अगर दिख जाए तो उन्हें भगाने और मारने के लिए बाजार में उपलब्ध तमाम तरह के छिड़कावों से लेकर उपकरणों का सहारा लेते होंगे। लेकिन हम अगर आपको यह बताएं कि हमारे देश के वैज्ञानिकों ने मच्छरों के लिए पोषक आहार तैयार किया है, वो भी इसलिए कि वे हेल्दी रहें। यह जानकर आप निश्चित ही चौंक गए होंगे। आइए आपको बताते हैं आखिर क्यों मच्छरों को तंदरुस्त रखना चाहते हैं वैज्ञानिक।

देश के सबसे बड़े वेक्टर कंट्रोल रिसर्च सेंटर पुडुचेरी की एक वैज्ञानिक डा. निशा मैथ्यू और उनकी टीम ने मच्छरों के लिए एक पोषक डाइट तैयार किया है। इस कृत्रिम पोषक आहार मच्छरों को पूरी तरह से मानव रक्त की तरह ही महसूस होगा और मच्छर स्वस्थ अंडे दे सकेंगे जो वैज्ञानिकों के शोध के लिए काफी महत्वपूर्ण सिद्ध होगा।

इसे भी पढ़ें : मिस्र में मिली 2000 साल पुरानी दुनिया की पहली गर्भवती ममी, आश्चर्य में शोधकर्ता

मच्छरों से होने वाली बीमारियों के रोकथाम व शोध के लिए कार्य करने वाली देश के सबसे बड़े वेक्टर कंट्रोल रिसर्च सेंटर पुडुचेरी के वैज्ञानिक लगातार इस काम में जुटे रहेते हैं। सेंटर में लंबे समय से रिसर्च कर रही वैज्ञानिक डा. निशा मैथ्यू और उनकी टीम ने पाया कि स्वस्थ मच्छरों को रिसर्च हेतु पालने के लिए मानव रक्त की आवश्यकता होती है। आईसीएमआर और स्थानीय ब्लड बैंकों पर आश्रित सेंटर को कई मौकों पर खून उपलब्ध नहीं हो पाता था। इस जटिल समस्या को दूर करने के लिए तथा मच्छर पालन के लिए रक्त पर आश्रित होने के विकट समस्या को दूर करने उन्होंने मच्छरों के लिए कृत्रिम डाइट बनाने पर अपना शोध शुरू किया।

इसे भी पढ़ें : हाईकोर्ट का बड़ा फैसला : पति की मृत्यु पर ससुर पर भरण-पोषण का दावा कर सकती है विधवा बहू

डा. निशा और उसकी टीम ने सबसे पहले ऐसे उपकरण बनाने का फैसला किया जो मानव शरीर के तापमान के बराबर हो तथा जिसमें मौजूद लिक्विड डाइट पूरी तरह से मानव रक्त से तथा मानव रक्त के गुणों से युक्त हो। उन्होंने कई तरह के प्रयोग किए और अंत में जाकर उन्होंने एक ऐसा उपकरण तैयार किया जो पूरी तरह से मानव शरीर जैसा ही काम करता है। इसके बाद पूरी टीम ने कृत्रिम डाइट पर काम शुरू किया और अंततः अब एक ऐसा डाइट तैयार कर लिया है जो मानव रक्त के गुणों से युक्त है।

इसे भी पढ़ें : PCC की बैठक में मोहन मरकाम ने कहा कुछ ऐसा कि जमकर भड़के CM भूपेश बघेल, छा गया सन्नाटा

आईसीएमआर-वीसीआरसी के निदेशक डा. अश्वनी कुमार ने भी वैज्ञानिकों के इस शोध की सराहना करते हुए कहा कि जब इन कृत्रिम आहारों का परीक्षण किया गया तो दो आहार सामान्य और दो अन्य आहार ब्लड डाइट से बेहतर साबित हुआ। इन्हें खाने से सामान्य रक्त आहार की तुलना में स्वस्थ और बड़ी संख्या में मच्छर अंडों का उत्पादन होता है।

मच्छरों से स्वस्थ अंडों के उत्पादन और इनके पालन से अब सेंटर के वैज्ञानिकों को अपने शोध के लिए स्वस्थ मच्छर लगातार मिलते रहेंगे। इससे मच्छरों से उत्पन्न होने वाली बीमारियों के रोकथाम के लिए सतत रूप से जारी कई शोध बिना किसी रूकावट के जारी रह सकेंगे। ज्ञात हो कि भारत में मच्छरों से होने वाली बीमारियों में जीका, डेंगू, चिकनगुनिया, पीला बुखार सहित अन्य तरह की बीमारियां होती हैं।

इसे भी पढ़ें : राष्ट्रपति चुनाव : NDA उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू का समर्थन करेगी शिवसेना! जानिए क्या कहा राउत ने


Related post

Health Tips: प्रदूषण से बचना है तो डाइट में शामिल करें ये सुपर फूड, मिलेंगे चमत्कारी फायदे…

Health Tips: प्रदूषण से बचना है तो डाइट में…

दिनोंदिन प्रदूषण बढ़ता जा रहा है. ऐसे में अपने स्वास्थ्य का ख्लाय रखने के लिए लोगों के लिए चुनौती बन गई…
LOVE, SEX और धोखा: लिव-इन-रिलेशनशिप में बैडमिंटन खिलाड़ी के साथ सालों तक रेप, प्रेग्नेंट होने पर 2-2 बार कराया अबॉर्शन, फिर शादी से मुकरा

LOVE, SEX और धोखा: लिव-इन-रिलेशनशिप में बैडमिंटन खिलाड़ी के…

छत्तीसगढ़ में लगातार अपराध और महिलाओं के साथ रेप का ग्राफ बढ़ता जा रहा है. प्रदेश में महिलाएं अब सुरक्षित नहीं…
छत्तीसगढ़ में भयावह हुआ डेंगू का डंक, राजधानी में एक ही दिन में मिले 49 नए मरीज

छत्तीसगढ़ में भयावह हुआ डेंगू का डंक, राजधानी में…

छत्तीसगढ़ में डेंगू का प्रकोप दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है. एक बार फिर प्रदेश में डेंगू के मरीजों की संख्या में…