• 19/07/2022

अनियमित कर्मचारी 25 से 29 जुलाई को सामूहिक अवकाश पर, ये हैं कारण

अनियमित कर्मचारी 25 से 29 जुलाई को सामूहिक अवकाश पर, ये हैं कारण

द तथ्य डेस्क। रायपुर। छत्तीसगढ़ राज्य के कर्मचारी-अधिकारी फेडरेशन द्वारा विभिन्न मुद्दों को लेकर 25 जुलाई से 29 जुलाई के मध्य कमलबंद हड़ताल करने वाले हैं। इसके लिए फेडरेशन ने अपनी ओर से जोरदार तैयारी कर रखी है। वहीं फेडरेशन के इस आंदोलन को अन्य कर्मचारी संगठनों ने भी अपना समर्थन दे दिया है।

इसे भी पढ़ें:राजभवन से निजी विश्वविद्यालयों को जारी हुआ आदेश, अब करना होगा ये काम

फेडरेशन के प्रांतीय संयोजक गोपाल प्रसाद साहू ने बताया कि फेडरेशन द्वारा महगाई भत्ता, गृह भा़डा तथा कांग्रेस पार्टी के जन घोषणा पत्र के बिंदु क्रमांक 11 एवं 30 में किये गए वादे के अनुरूप अनियमित, संविदा एवं दैनिक वेतनभोगी के नियमितीकरण एवं किसी भी अनियमित कर्मचारी की छंटनी नहीं करने तथा आउट सोर्सिंग बंद करने की मांग के समर्थन में 25 से 29 जुलाई 2022 तक कलम बंद, काम बंद हड़ताल किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: कलेक्टोरेट परिसर के सामने दर्जन भर युवकों ने किया नग्न प्रदर्शन

रवि गडपाले प्रांतीय अध्यक्ष कहा कि प्रदेश के लाखों अनियमित कर्मचारियों को नियमित करने एवं छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन के 2 सूत्रीय मांग के समर्थन में छत्तीसगढ़ संयुक्त अनियमित कर्मचारी महासंघ, कमल वर्मा प्रांतीय संयोजक, छत्तीसगढ़ कर्मचारी अधिकारी फेडरेशन द्वारा आयोजितआन्दोलन तथा निर्धारित कार्यक्रम के तहत 25 से 28 जुलाई को जिला, ब्लाक, तहसील में धरना प्रदर्शन किया जााएगा। वहीं 29 जुलाई को जिला मुख्यालय में धरना-प्रदर्शन, महारैली एवं मुख्यमंत्री के नाम ज्ञापन देने में अपनी सहभागिता प्रमुखता से निभाएगा। कर्मचारी संगठनों ने एकजुट होकर कहा कि कांग्रेस ने सत्ता में आने के पहले वादा कियाथा कि 10 दिन में नियमितीकरण किया था, आज साढ़े 3 साल में भी पूरा नहीं हुआ।

इसे भी पढ़ें: सब्बल मारकर कर दी विधवा चाची की हत्या, तीन मासूमों के सिर से उठा मां का साया

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने वादा किया था कि 1 साल के अंदर नियमितीकरण होगा, वो भी आज तक पूरा नहीं हो सका। पिछले 3 साल में नियमितीकरण के लिए गठित कमेटी की रिपोर्ट पूरी नहीं हुई है। पिछले 3 साल में सरकार कर्मचारियों का डाटा इकट्ठा नहीं कर पाई है। पिछले तीन विधानसभा सत्र में मुख्यमंत्री द्वारा नियमितीकरण की बात स्वीकार की गई लेकिन वादा आज भी अधूरा है। आउटसोर्सिंग बंद नहीं हुआ। कर्मचारियों को मिलने वाला वेतन वृद्धि रोक दिया गया है। घोषणा पत्र में छंटनी नहीं करने का वादा था लेकिन कई विभागों से छटनियां कर दी गई है। इससे अनियमित कर्मचारियों में भारी आक्रोश है।

इसे भी पढ़ें: संकटमोचन बना भारत, ऐसे कर रहा श्रीलंका की मदद


Related post

Weather Update Today: पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी से गिर रहा तापमान, इन राज्यों में बढ़ेगा सर्दी का सितम, जानिए CG में कैसा रहेगा मौसम

Weather Update Today: पहाड़ी क्षेत्रों में बर्फबारी से गिर…

उत्तर भारत के राज्यों में ठंड की शुरुआत होने लगी है. ज्यादातर जगहों पर सुबह-सुबह कोहरा नजर आने लगा है. तापमान…
Weather Update Today: पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी से लुढ़का पारा, छत्तीसगढ़ समेत इन राज्यों में इस साल ज्यादा पड़ेगी ठंड

Weather Update Today: पहाड़ी इलाकों में भारी बर्फबारी से…

पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हो रही है. जिस कारण मैदानी इलाकों में भी ठंड बढ़ने लगी है. दिल्ली, छत्तीसगढ़ समेत अन्य…
शव लेकर श्मशान पहुंचे लोगों ने किया कुछ ऐसा काम कि मधुमक्खियों ने बोला हमला, 30 घायल

शव लेकर श्मशान पहुंचे लोगों ने किया कुछ ऐसा…

मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले के एक श्मशान घाट में मधुमक्खियों ने लोगों पर हमला कर दिया. इस हमले में करीब 30…