• 19/07/2022

नूपुर शर्मा की सुप्रीम गुहार, नई याचिका में रखी ये बात

नूपुर शर्मा की सुप्रीम गुहार, नई याचिका में रखी ये बात

द तथ्य डेस्क। भाजपा की पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने अपने खिलाफ देश के आठ राज्यों में दर्ज एफआईआर को एक जगह ट्रांसफर करने की मांग करते हुए सुप्रीम कोर्ट पहुंची है। इस मामले में आज सुप्रीम कोर्ट की डबल बैंच सुनवाई करेगी, इसके पूर्व शर्मा ने 1 जुलाई को याचिका दाखिल कर राहत की मांग कर चुकी है जिसे कोर्ट ने ठुकरा दिया था।

नूपुर की ओर से दाखिल इस नई याचिका में कहा गया है कि कोर्ट की टिप्पणी के बाद उसकी जान का खतरा और ज्यादा बढ़ गया है। ऐसे में उनके विरूद्ध जिन आठ राज्यों में मामला दर्ज किया गया है उन्हें एक जगह ट्रांसफर किया जाए तथा उन्हें गिरफ्तारी से राहत दी जाए। इस नई याचिका में महाराष्ट्र के अलावा तेलंगाना, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक तथा जम्मू-कश्मीर और असम राज्य को भी पक्ष बनाया गया है।

इसे भी पढ़ें: छात्राओं के ब्रा उतरवाए गए, NEET का एग्जाम देने पहुंचीं थी, कहा गया- नहीं उतारोगी तो परीक्षा नहीं दे पाओगी


दूसरी ओर पश्चिम बंगाल में कोलकाता पुलिस नूपुर शर्मा का लुकआउट नोटिस जारी कर चुकी है। विगत 02 जुलाई को कोलकाता पुलिस ने शर्मा के खिलाफ नोटिस जारी करते हुए कहा था कि उन्हें पूछताछ के लिए बुलाया गया, मगर वो नहीं आई। इसी तरह महाराष्ट्र और तेलंगाना की पुलिस भी नूपुर से पूछताछ करना चाहती है। दूसरी ओर 01 जुलाई को ही नूपुर शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर राहत की मांग कर चुकी है, मगर कोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई से ही इंकार कर दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने तब कहा था-आपके चलते देश की स्थिति बिगड़ी हुई है।

इसे भी पढ़ें: दहेज प्रताड़ना को हथियार के रूप में इस्तेमाल करना पति और ससुराल वालों के साथ क्रूरता, कहते हुए हाईकोर्ट ने दिया ये निर्णय

आपने देर से माफी मांगीए वह भी शर्त के साथ कि अगर किसी की भावना आहत हुई हो तो बयान वापस लेती हूँ। आपको राष्ट्रीय टीवी पर आकर पूरे देश से माफी मांगनी चाहिए। वहीं नूपुर की ओर से उनके अधिवक्ता ने देश के विभिन्न राज्यों में दर्ज एफआईआर को दिल्ली ट्रांसफर करने की मांग कर रहे थे जिस पर कोर्ट ने दिल्ली पुलिस के कामकाज पर सवाल उठाते हुए कहा था कि दिल्ली में दर्ज मामले में क्या कार्यवाही हुई है,यहां तो शायद आपके लिए पुलिस ने रेड कार्पेट बिछा रखा है। कोर्ट ने इस पर सख्त टिप्पणी करते हुए कहा था कि आपको सभी राज्यों के हाईकोर्ट में जाकर अपनी बात रखनी चाहिए और निचली अदालत से ही जमानत की अर्जी दीजिए।

इसे भी पढ़ें: सब्बल मारकर कर दी विधवा चाची की हत्या, तीन मासूमों के सिर से उठा मां का साया


Related post

प्राइवेट पार्ट में टूटी बोतल डाली, आखें निकालकर तेजाब भर दिया, गैंगरेप के तीनों दोषी सुप्रीम कोर्ट से बरी

प्राइवेट पार्ट में टूटी बोतल डाली, आखें निकालकर तेजाब…

दिल्ली के छावाला इलाके की एक 19 वर्षीय युवती को किडनैप कर उसके साथ गैंगरेप और निर्ममता से हत्या के मामले…
आरक्षण पर HC के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से किया इंकार, एक याचिकाकर्ता ने सरकार को भेजा अवमानना का नोटिस, कहा- प्रदेश में RESERVATION समाप्त

आरक्षण पर HC के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने…

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट द्वारा आरक्षण पर दिए गए फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय ने रोक लगाने से इंकार कर दिया है। न्यायालय…
बड़ी खबर: हिजाब पर सुप्रीम कोर्ट के दोनों जजों की राय अलग-अलग, एक ने पलटा हाईकोर्ट का फैसला; बड़ी बेंच के लिए CJI को भेजा गया मामला

बड़ी खबर: हिजाब पर सुप्रीम कोर्ट के दोनों जजों…

कर्नाटक हिजाब मामले में शिक्षण संस्थानों में लगा हिजाब बैन फिलहाल जारी रहेगा. मामले में की सुनवाई करने वाले दोनों जजों…