• 25/07/2022

सुप्रीम कोर्ट से मिला महेंद्र सिंह धोनी को नोटिस

सुप्रीम कोर्ट से मिला महेंद्र सिंह धोनी को नोटिस

द तथ्य डेस्क। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी को सुप्रीम कोर्ट ने तगड़ा झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने उन्हें आम्रपार्टी मामले मेंनोटिस जारी किया है। वहीं कोर्ट ने इस मामले में मध्यस्थता की कार्रवाई पर भी रोक लगा दिया है। धोनी ने कोर्ट से अपने बकाया 40 करोड़ रूपए दिलाने अपील की थी।

यह भी पढे़ः छात्रा को डांटने पर समुदाय विशेष की भीड़ ने महिला टीचर को निर्वस्त्र कर पीटा, 4 गिरफ्तार

महेन्द्र सिंह धोनी ने रियल इस्टेट कंपनी आम्रपाली ग्रुप के ब्रांड एम्बेसडर के तौर पर काम किया था। इस काम की डील करोड़ों में हुई थी। किसी कारणवश धोनी ने वर्ष 2016 मंे इस गु्रप से अपना रास्ता अलग कर लिया था। इस दौरान गु्रप से उन्हें करोड़ों रूपए मेहताना के लेने थे, लेकिन गु्रप ने उन्हें बकाया राशि का भुगतान नहीं किया। इसके खिलाफ धोनी ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। धोनी आम्रपाली ग्रुप द्वारा उन्हें पेंटहाउस न दिए जाने और कंपनी द्वारा उनका नाम देनदारों की सूची में शामिल करने को लेकर कोर्ट पहुंचे थे। धोनी ने अपनी याचिका में लिखा था कि उन्होंने रांची में आम्रपाली सफारी में एक पेंटहाउस बुक किया था।

यह भी पढे़ः कैटरीना कैफ और विक्की कौशल को मिली जान से मारने की धमकी

इसके अलावा समूह के प्रबंधन ने उन्हें अपना ब्रांड एम्बेसडर भी बनाया था, लेकिन कंपनी ने उन्हें धोखा दिया। ब्रांड एम्बेसडर के तौर पर जो बकाया राशि थी, उसका भी भुगतान नहीं किया है। सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त रिसीवर ने धोनी समेत उन 1800 लोगों को नोटिस भेजा था जिन्होंने आम्रपाली ग्रुप की अलग.अलग परियोजनाओं में घर खरीदे हुए हैं। इन सभी को 15 दिन के अंदर पैसा जमाने का निर्देश मिला था। धोनी कभी आम्रपाली ग्रुप के ब्रांड एंबेसडर थे। साल 2016 में उन्होंने खुद को आम्रपाली ग्रुप से अलग कर लिया था। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में अर्जी देकर अपनी 40 करोड़ रुपये की फीस दिलाने की मांग भी की थी।

यह भी पढे़ः राष्ट्रपति पद की शपथ लेने के बाद मुर्मू ने कही ऐसी बात कि….


Related post

प्राइवेट पार्ट में टूटी बोतल डाली, आखें निकालकर तेजाब भर दिया, गैंगरेप के तीनों दोषी सुप्रीम कोर्ट से बरी

प्राइवेट पार्ट में टूटी बोतल डाली, आखें निकालकर तेजाब…

दिल्ली के छावाला इलाके की एक 19 वर्षीय युवती को किडनैप कर उसके साथ गैंगरेप और निर्ममता से हत्या के मामले…
आरक्षण पर HC के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगाने से किया इंकार, एक याचिकाकर्ता ने सरकार को भेजा अवमानना का नोटिस, कहा- प्रदेश में RESERVATION समाप्त

आरक्षण पर HC के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने…

छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट द्वारा आरक्षण पर दिए गए फैसले के खिलाफ सर्वोच्च न्यायालय ने रोक लगाने से इंकार कर दिया है। न्यायालय…
बड़ी खबर: हिजाब पर सुप्रीम कोर्ट के दोनों जजों की राय अलग-अलग, एक ने पलटा हाईकोर्ट का फैसला; बड़ी बेंच के लिए CJI को भेजा गया मामला

बड़ी खबर: हिजाब पर सुप्रीम कोर्ट के दोनों जजों…

कर्नाटक हिजाब मामले में शिक्षण संस्थानों में लगा हिजाब बैन फिलहाल जारी रहेगा. मामले में की सुनवाई करने वाले दोनों जजों…